Drishti CUET में आपका स्वागत है - Drishti IAS द्वारा संचालित   |   CUET (UG) Retest for Affected Candidates   |   CUET (UG) - 2024 ANSWER KEY CHALLENGE   |   दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश संबंधी दिशानिर्देश




करेंट अफेयर्स

Home / करेंट अफेयर्स

विविध

19 जून, 2024

    «    »
 19-Jun-2024

    No Tags Found!

H5N1

  • एवियन इन्फ्लूएंज़ा A(H5N1) अथवा H5B1 बर्ड फ्लू एक अत्यधिक रोगजनक जीवाणु है जो मुख्य रूप से पक्षियों में संचरित होता है किंतु स्तनधारियों को संक्रमित कर सकता है।
  • उत्पत्ति: H5N1 की उत्पत्ति वर्ष 1996 में चीन में एक जीवाणु के प्रकोप से हुई और तेज़ी से एक अत्यधिक रोगजनक प्रभेद (Strain) में विकसित हुआ।
  • वर्ष 2020 के बाद से यह यूरोप, अफ्रीका, एशिया, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका और अंटार्कटिका में फैल गया।
  • भारत में वर्ष 2015 में महाराष्ट्र और गुजरात राज्य में H5N1 संक्रमण का पहला मामला दर्ज किया गया।
  • पशुओं पर प्रभाव:
    • वन्य पक्षी, जिनमें कैलिफोर्निया कोंडोर जैसी संकटापन्न जातियाँ भी शामिल हैं, H5N1 से गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं।
    • इसके प्रभावित होने वाली मुख्य प्रजाति मुर्गी थी।
    • सी-लायन्स और डॉल्फिन जैसे समुद्री स्तनधारियों को चिली तथा पेरू जैसे क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर मृत्यु का सामना करना पड़ा है।
    • उत्तरी अमेरिका में लोमड़ी, प्यूमा, भालू जैसे स्तनधारी और स्पेन व फिनलैंड में फार्म मिंक भी संक्रमित हो गए हैं।
  • मानव जोखिम और प्रसार कारक:
    • दुर्लभ होते हुए भी, मनुष्य मुख्य रूप से संक्रमित पक्षियों के संपर्क के माध्यम से बर्ड फ्लू से संक्रमित हो सकते हैं।
    • जलवायु परिवर्तन से वायरस का प्रसार बढ़ सकता है, पक्षियों के व्यवहार में बदलाव आ सकता है और पक्षियों की प्रजातियों के बीच मेल-जोल बढ़ सकता है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) जोखिम मूल्यांकन:
    • हालाँकि यह वायरस मनुष्यों को आसानी से संक्रमित नहीं करता है, फिर भी आंशिक मामले सामने आते रहते हैं, जो मुख्य रूप से पोल्ट्री एक्सपोज़र से जुड़े होते हैं।
    • मानव-से-मानव में संचरण दुर्लभ है, लेकिन आगे के मामलों की संभावना मौजूद है, खासकर उन क्षेत्रों में जहाँ वायरस पोल्ट्री में स्थानिक है।
    • WHO सामान्य आबादी के लिये समग्र जोखिम को कम मानता है लेकिन निगरानी एवं जोखिम प्रबंधन के महत्त्व पर बल देता है।
  • निवारक उपाय और सिफारिशें:
    • WHO जनता को जीवित पशु बाज़ारों जैसे उच्च जोखिम वाले वातावरण से बचने और हाथ की स्वच्छता का अभ्यास करने की सलाह देता है।
    • बीमार पशुओं की तुरंत सूचना देने और बीमार मुर्गों के सेवन से बचने की सलाह दी जाती है।
    • संक्रमित पक्षियों या वातावरण के संपर्क में आने वाले व्यक्तियों को तुरंत चिकित्सा लेनी चाहिये।
  • चर्चा में क्यों?
    • अत्यधिक रोगजनक एवियन इन्फ्लूएंज़ा (HPAI) H5N1 वायरस संयुक्त राज्य अमेरिका के कई राज्यों में मवेशियों को प्रभावित कर रहा है।
    • डेयरी फार्म श्रमिकों में पहली बार तीन मानव संक्रमणों की सूचना मिली है, जिससे मवेशियों से मनुष्यों में H5N1 के व्यापक संचरण की आशंका उत्पन्न हो गई है।
    • केरल में अलपुझा, कोट्टायम और पथानामथिट्टा ज़िलों में अप्रैल से अब तक 19 स्थानों पर H5N1 के प्रकोप की सूचना मिली है।
    • इन ज़िलों में जल निकाय, प्रवासी पक्षी, मुर्गे और एकीकृत फार्म सहित पारिस्थितिकी तंत्र मौजूद हैं।
    • अलप्पुझा में बड़ी संख्या में कौओं की मृत्यु H5N1 के कारण होने की पुष्टि हुई है।

थाईलैंड में समलैंगिक विवाह विधेयक पारित

  • थाईलैंड ने समलैंगिक विवाह को वैध बनाने वाले विधेयक को अनुमति दे दी है।
  • ऐसा कानून बनाने वाला यह दक्षिण-पूर्व एशिया का पहला देश बन गया है।
  • यह विधेयक LGBTQ+ जोड़ों को विषमलैंगिक जोड़ों के समान कानूनी अधिकार और मान्यता प्रदान करता है, जिसमें विरासत, गोद लेने तथा स्वास्थ्य देखभाल संबंधी निर्णय लेने से संबंधित अधिकार शामिल हैं।
  • नोट:
    • समलैंगिक विवाह को वैध बनाने वाले अन्य देश ताइवान और नेपाल हैं।
  • भारत में समलैंगिक विवाह की वैधता:
    • भारतीय संविधान के तहत विवाह करने के अधिकार को मौलिक या संवैधानिक अधिकार के रूप में स्पष्ट रूप से मान्यता नहीं दी गई है, बल्कि यह एक वैधानिक अधिकार है।
    • यद्यपि विवाह को विभिन्न वैधानिक अधिनियमों के माध्यम से विनियमित किया जाता है, लेकिन मौलिक अधिकार के रूप में इसकी मान्यता केवल भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायिक निर्णयों के माध्यम से विकसित हुई है। संविधान के अनुच्छेद 141 के तहत कानून की ऐसी घोषणा पूरे भारत में सभी न्यायालयों पर बाध्यकारी है।
  • विशेष विवाह अधिनियम (SMA), 1954
    • परिचय:
      • विशेष विवाह अधिनियम (SMA), वर्ष 1954 एक भारतीय कानून है जो विभिन्न धर्मों या जातियों के लोगों के विवाह के लिये कानूनी ढाँचा प्रदान करता है।
      • यह सिविल विवाह को नियंत्रित करता है, जहाँ राज्य धर्म के बजाय विवाह को मंज़ूरी देता है।
      • भारतीय प्रणाली, जिसमें नागरिक और धार्मिक दोनों प्रकार के विवाहों को मान्यता दी जाती है, ब्रिटेन के वर्ष 1949 के विवाह अधिनियम के कानूनों के समान है।
    • विशेषताएँ:
      • यह कानून दो अलग-अलग धार्मिक पृष्ठभूमि के लोगों को विवाह के बंधन में बंँधने की अनुमति देता है।
      • यह कानून विवाह के अनुष्ठान और पंजीकरण दोनों के लिये प्रक्रिया निर्धारित करता है, जहाँ पति या पत्नी या दोनों में से कोई भी हिंदू, बौद्ध, जैन या सिख नहीं हैं।
      • यह एक धर्मनिरपेक्ष अधिनियम है, जो व्यक्तियों को विवाह की पारंपरिक आवश्यकताओं से मुक्त करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

नीरज चोपड़ा ने पावो नूरमी गेम्स 2024 में स्वर्ण पदक जीता

  • उन्होंने फिनलैंड के तुर्कू में विश्व एथलेटिक्स कॉन्टिनेंटल टूर इवेंट (World Athletics Continental Tour Event), पावो नूरमी गेम्स में पुरुषों की भाला फेंक स्पर्द्धा में स्वर्ण पदक जीता।
  • नोट:
    • विश्व एथलेटिक्स कॉन्टिनेंटल टूर स्वतंत्र ट्रैक और फील्ड एथलेटिक प्रतियोगिताओं की एक वार्षिक शृंखला है, जिसे विश्व एथलेटिक्स (जिसे पहले IAAF के नाम से जाना जाता था) द्वारा मान्यता प्राप्त है।

अश्विनी कुमार को दिल्ली नगर निगम (MCD) का आयुक्त नियुक्त किया गया

  • उन्हें गृह मंत्रालय (MHA) द्वारा नियुक्त किया गया है।
  • वह ज्ञानेश भारती का स्थान लेंगे।
  • नोट:
    • MCD की स्थापना 7 अप्रैल, 1958 को हुई थी।
    • इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।

विश्व सिकल सेल जागरूकता दिवस 2024

  • सिकल सेल रोग (Sickle Cell Disease) के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिये 19 जून को प्रतिवर्ष विश्व सिकल सेल जागरूकता दिवस मनाया जाता है।
  • इस दिवस की थीम है "प्रगति के माध्यम से आशा: वैश्विक स्तर पर सिकल सेल देखभाल को आगे बढ़ाना" (Hope Through Progress: Advancing Sickle Cell Care Globally)।
  • नोट:
    • SCD एक आनुवंशिक रक्त विकार है जो हीमोग्लोबिन जीन में उत्परिवर्तन के कारण होता है, जिससे असामान्य हीमोग्लोबिन एस का उत्पादन होता है।
    • इसके परिणामस्वरूप कठोर, अर्द्धचंद्राकार श्वेत रुधिर कोशिकाएँ निर्मित होती हैं जो रक्त प्रवाह में बाधा डाल सकती हैं।