Drishti CUET में आपका स्वागत है - Drishti IAS द्वारा संचालित   |   CUET (UG) Retest for Affected Candidates   |   CUET (UG) - 2024 ANSWER KEY CHALLENGE   |   दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश संबंधी दिशानिर्देश




करेंट अफेयर्स

Home / करेंट अफेयर्स

विविध

20 जून, 2024

    «    »
 20-Jun-2024

    No Tags Found!

हिंदू कुश हिमालय (HKH)

  • परिचय:
    • HKH पर्वत शृंखला आठ देशों: अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, चीन, भारत, नेपाल, म्याँमार और पाकिस्तान में 3500 किलोमीटर से अधिक तक फैली हुई है।
    • इस क्षेत्र में आर्कटिक और अंटार्कटिका के बाहर बर्फ तथा हिम की सबसे बड़ी मात्रा है।
    • विश्व के 36 वैश्विक जैवविविधता हॉटस्पॉट में से 4 इसी क्षेत्र में पाए जाते हैं।
      • हिमालय
      • इंडो-बर्मा
      • दक्षिण-पश्चिम चीन के पर्वत और
      • मध्य एशिया के पर्वत
  • एशिया का जल मीनार (Water Tower of Asia): इसे 'एशिया का जल मीनार' कहा जाता है। HKH (हिंदूकुश हिमालय) से संपूर्ण एशियाई महाद्वीप में प्रत्येक दिशा में कम-से-कम 12 नदियाँ प्रवाहित होती हैं। ये नदियाँ हैं:
    • सिंधु, गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी अरब सागर एवं बंगाल की खाड़ी की ओर
    • सिर दरिया (Syr Darya) और अमु दरिया (Amu Darya) मृत अरल सागर की ओर
    • तारिम तकलामकान (Taklamakan) की ओर
    • येलो नदी बोहाई की खाड़ी की ओर
    • यांग्त्ज़ी नदी पूर्वी चीन सागर की ओर
    • मेकांग नदी दक्षिण चीन सागर की ओर
    • चिंदविन, साल्विन और इरावदी अंडमान सागर की ओर

अंतर्राष्ट्रीय एकीकृत पर्वतीय विकास केंद्र (International Centre for Integrated Mountain Development- ICIMOD)

  • ICIMOD वर्ष 1983 में स्थापित एक क्षेत्रीय अंतर-सरकारी संगठन है।
  • यह हिंदू कुश हिमालय को अधिक हरित, अधिक समावेशी और जलवायु अनुकूल बनाने की दिशा में काम करता है।
  • चर्चा में क्यों?
    • अंतर्राष्ट्रीय एकीकृत पर्वतीय विकास केंद्र (ICIMOD) ने बताया कि भारत का सबसे बड़ा गंगा नदी बेसिन वर्ष 2024 में बर्फ के स्थायित्व के मामले में रिकॉर्ड निम्न स्तर पर पहुँच जाएगा।
    • ब्रह्मपुत्र और सिंधु बेसिन में भी ऐसी ही समस्याएँ हैं, जिससे लाखों लोगों की जलापूर्ति खतरे में पड़ रही है।
  • हिम स्थायित्व क्या है?
    • हिम का स्थायित्व उस समय का अंश है जब हिम ज़मीन पर रहती है। जब यह पिघलती है, तो लोगों और पारिस्थितिकी तंत्रों को जल प्रदान करती है।

नालंदा विश्वविद्यालय

  • परिचय:
    • कुमारगुप्त, जिन्हें शक्रादित्य के नाम से भी जाना जाता है, ने 5वीं शताब्दी ई. में नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना की थी।
    • 1190 के दशक में तुर्क-अफगान सैन्य जनरल बख्तियार खिलज़ी ने विश्वविद्यालय को नष्ट कर दिया था।
    • नालंदा विश्वविद्यालय के खंडहरों को वर्ष 1980 में यूनेस्को विरासत स्थल घोषित किया गया था।
  • चर्चा में क्यों?
    • 19 जून, 2024 को भारत के प्रधानमंत्री ने बिहार के राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के नए पुनर्निर्मित परिसर का उद्घाटन किया।
    • विश्वविद्यालय की परिकल्पना भारत और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (East Asia Summit- EAS) देशों के बीच सहयोग के रूप में की गई है।
    • यह परिसर एक 'नेट ज़ीरो' ग्रीन कैंपस है। यह एक सौर संयंत्र, घरेलू और पेयजल उपचार संयंत्र, अपशिष्ट जल के पुन: उपयोग के लिये जल पुनर्चक्रण संयंत्र, 100 एकड़ जल निकाय तथा कई अन्य पर्यावरण अनुकूल सुविधाओं के साथ आत्मनिर्भर है।
  • पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (East Asia Summit- EAS)
    • EAS की स्थापना वर्ष 2005 में दक्षिण-पूर्व एशियाई राष्ट्रों के संगठन (आसियान) के नेतृत्त्व वाली पहल के रूप में की गई थी।
    • EAS इंडो-पैसिफिक में एकमात्र नेता-नेतृत्त्व वाला मंच है जो रणनीतिक महत्त्व के राजनीतिक, सुरक्षा और आर्थिक मुद्दों पर चर्चा करने के लिये सभी प्रमुख भागीदारों को एक साथ लाता है।
    • EAS खुलेपन, समावेशिता, अंतर्राष्ट्रीय कानून के प्रति सम्मान, आसियान की केंद्रीयता और प्रेरक शक्ति के रूप में आसियान की भूमिका के सिद्धांतों पर काम करता है।

राष्ट्रीय फोरेंसिक अवसंरचना संवर्द्धन योजना (National Forensic Infrastructure Enhancement Scheme- NFIES)

  • चर्चा में क्यों?
    • केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय फोरेंसिक अवसंरचना संवर्द्धन योजना (NFIES) को मंज़ूरी दे दी है।
    • इसका उद्देश्य बुनियादी ढाँचे और जनशक्ति में रणनीतिक निवेश के माध्यम से भारत की फोरेंसिक क्षमताओं को मज़बूत करना है।
  • परिचय
    • इस योजना का संचालन केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा किया जाएगा।
    • यह एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना है (केंद्र सरकार द्वारा 100% वित्तपोषित) जिसका कुल परिव्यय 2254.3 करोड़ रुपए है।
    • यह योजना वर्ष 2024-25 से वर्ष 2028-29 तक चलेगी।
  • योजना के अंतर्गत घटक
    • भारत में राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय (National Forensic Sciences University- NFSU) के परिसरों की स्थापना।
    • भारत में केंद्रीय फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशालाओं की स्थापना।
    • NFSU के दिल्ली परिसर के मौजूदा बुनियादी ढाँचे का संवर्द्धन।