Drishti CUET में आपका स्वागत है - Drishti IAS द्वारा संचालित   |   Result CUET (UG) - 2023   |   CUET (UG) Exam Date 2024




करेंट अफेयर्स

Home / करेंट अफेयर्स

विविध

24 जनवरी, 2024

    «    »
 24-Jan-2024

    No Tags Found!

पराक्रम दिवस 2024

  • प्रत्येक वर्ष 23 जनवरी को पराक्रम दिवस मनाया जाता है, यह नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती का प्रतीक है।
  • यह दिन उनकी अटूट भावना और भारत की आज़ादी में महत्त्वपूर्ण योगदान का उत्सव है।
  • वर्ष 2024 में राष्ट्र पराक्रम दिवस का 127वाँ संस्करण मनाएगा।

पीएम मोदी ने सौर ऊर्जा योजना लॉन्च की

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना' लॉन्च की।
  • यह एक सरकारी पहल है जिसका लक्ष्य एक करोड़ घरों को रूफटॉप सौर ऊर्जा प्रणाली प्रदान करना है।
  • सौर ऊर्जा प्रणालियों को अपनाने हेतु प्रोत्साहित करने का यह पहला प्रयास नहीं है, पिछली पहल वर्ष 2014 में शुरू किया गया रूफटॉप सोलर कार्यक्रम था।
  • इस कार्यक्रम का उद्देश्य वर्ष 2022 तक 40,000 मेगावाट (मेगावाट) या 40 गीगावाट (GW) की संचयी स्थापित क्षमता हासिल करना था।
  • दुर्भाग्य से यह लक्ष्य पूरा नहीं हुआ, जिसके कारण समय सीमा को वर्ष 2022 से बढ़ाकर वर्ष 2026 कर दिया गया।
  • प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना 40 गीगावॉट छत सौर क्षमता के लक्ष्य की दिशा में कार्य करने के लिये एक नवीनीकृत पहल प्रतीत होती है।

सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार-2024

  • वर्ष 2024 में उत्तर प्रदेश के 60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल को आपदा प्रबंधन में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
  • प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार की स्थापना की है।
  • यह एक वार्षिक पुरस्कार है जिसे भारत में आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में व्यक्तियों और संगठनों द्वारा प्रदान किये गए सराहनीय योगदान एवं निस्वार्थ सेवा को स्वीकार करने तथा सराहना करने हेतु डिज़ाइन किया गया है।
  • पुरस्कार में 51 लाख रुपए का नकद पुरस्कार और संस्थानों के लिये एक प्रमाण पत्र एवं व्यक्तियों के लिये 5 लाख रुपए के साथ एक प्रमाण पत्र शामिल है।

उपराष्ट्रपति 'हमारा संविधान, हमारा सम्मान' अभियान का उद्घाटन करेंगे

  • उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने 24 जनवरी, 2024 को 'हमारा संविधान, हमारा सम्मान' नामक एक वर्ष तक चलने वाले राष्ट्रव्यापी अभियान का उद्घाटन किया।
  • यह एक गणतंत्र के रूप में भारत के 75वें वर्ष का जश्न मनाने के लिये है।
  • उद्घाटन समारोह नई दिल्ली के डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित किया जाएगा।
  • इस अभियान का उद्देश्य भारत के संविधान में निहित सिद्धांतों के प्रति हमारी सामूहिक प्रतिबद्धता की पुष्टि करना और हमारे राष्ट्र को एकजुट करने वाले साझा मूल्यों का जश्न मनाने के लिये डिज़ाइन किया गया है।
  • इस राष्ट्रव्यापी पहल में संवैधानिक व्यवस्था में उल्लिखित आदर्शों को बनाए रखने के लिये गर्व और उत्तरदायित्व की भावना जगाने की परिकल्पना की गई है।

हरियाणा में 'श्री राम महोत्सव' और 'खादी संवाद'

  • श्री अयोध्या धाम में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा (प्रतिष्ठा समारोह) के शुभ अवसर पर हरियाणा के झुंपा गाँव में 'श्रीराम महोत्सव' और 'खादी संवाद' का आयोजन किया गया।
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा व्यक्त 'आत्मनिर्भर और विकसित भारत' के संकल्प को नए आयाम पर ले जाने के लिये सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के अधीन खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने हरियाणा के भिवानी ज़िले स्थित सिवनी तहसील के झुंपा गाँव में श्री राम महोत्सव, खादी संवाद और ग्रामोद्योग विकास योजना के तहत मशीनरी और टूलकिट्स वितरित किये।
  • इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद बिप्लब कुमार देब थे।

अभ्यास खंजर 2024

  • भारत-किर्गिज़स्तान का 11वाँ संयुक्त विशेष बल अभ्यास खंजर हिमाचल प्रदेश के बकलोह स्थित विशेष बल प्रशिक्षण स्कूल में प्रारंभ हो गया है।
  • यह अभ्यास 22 जनवरी, 2024 से 3 फरवरी, 2024 तक चलेगा।
  • यह अभ्यास दोनों देशों में वैकल्पिक रूप से आयोजित एक वार्षिक कार्यक्रम है।
  • 20 कर्मियों वाले भारतीय सेना के दल का प्रतिनिधित्व पैराशूट रेजिमेंट (विशेष बल) के सैनिकों द्वारा किया जा रहा है और किर्गिज़स्तान के दल में 20 कर्मियों का प्रतिनिधित्व स्कॉर्पियन ब्रिगेड द्वारा किया जाता है।
  • अभ्यास का प्राथमिक उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अध्याय VII के अनुरूप, विशेष रूप से निर्मित क्षेत्रों और पर्वतीय इलाकों में आतंकवाद-रोधी एवं विशेष बल संचालन में अनुभवों तथा सर्वोत्तम प्रथाओं के आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करना है।
  • इस अभ्यास का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अध्याय-VII के अंतर्गत निर्मित क्षेत्र तथा पर्वतीय इलाकों में आतंकवाद विरोधी और विशेष बलों के संचालन में अनुभवों एवं श्रेष्ठ व्यवहारों का आदान-प्रदान करना है।